1983 World Cup के 21 amazing तथ्य (21 amazing facts of 1983 world cup in hindi)

1. जब भारतीय क्रिकेट टीम 1983 में इंग्लैंड वर्ल्ड कप खेलने गयी थी, तो उनकी टीम के साथ ना तो कोई कोच था और ना ही कोई डॉक्टर. 

2. कोच न होने की वजह से मोहिंदर अमरनाथ ने कपिल देव और सुनील गावस्कर के साथ मिलकर टीम का बैटिंग और बोलिंग आर्डर तय किया था.

3.  1983 वर्ल्ड कप के दौरान 60-60 ओवर्स के मैच हुआ करते थे. 

4. 1983 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम ने कुल 8 मैच खेले थे, जिनमे 2 को छोड़कर उन्होंने सारे मैच जीते थे.    

5.  क्वार्टर फाइनल के एक मैच में भारतीय टीम ने ज़िम्बावे के खिलाफ़ केवल 17 रनो पर अपनी 5 विकेट खो दी थी, पर फिर कपिल देव ने 175 रनो  की तूफानी पारी खेली और टीम को जीत दिलाई, पर बदकिस्मती से उस दिन बीबीसी की स्ट्राइक होने की वज़ह से वो मैच न तो टेलीकास्ट हो पाया और न ही रिकॉर्ड.   

6.  भारतीय टीम का फाइनल में वेस्टइंडीज से सामना हुआ था, जो अपने तूफानी बल्लेबाज़ों की वजह से मशहूर थी और 1975 और 1979 में वर्ल्ड कप अपने नाम कर चुकी थी.  

7.  1983 वर्ल्ड कप के फाइनल में वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर गेंदबाज़ी का निर्णय लिया था. 

8.  भारत की तरफ से खेलते हुए के. श्रीकांत ने सबसे ज़्यादा 37 रन बनाए थे, जिनमे 1छक्का और 7 चौके शामिल थे. 

9.  मैच में Larry Gomes सबसे ज़्यादा महंगे गेंदबाज़ साबित हुए थे, उन्होंने 11 ओवर्स में  49 रन देकर 2 विकेट लिए थे. 

10.  पूरी भारतीय टीम केवल 183 रनो पर आल आउट हो गयी थी, जिसे देख बहुत सारे भारतीय प्रशंसक वंहा से उठकर जाने लगे थे और यहाँ तक की कपिल देव की धर्मपत्नी भी मैच बीच में छोड़कर अपने होटल वापिस आ गयी थी. 

11.  वेस्टइंडीज की तरफ से बल्लेबाजी करते हुए, Viv Richards  ने सबसे ज़्यादा 33 रन बनाए. 

12.  वेस्टइंडीज की टीम के 7 बल्लेबाज़ तो 10 रन भी नहीं बना पाए थे. 

13.  पहले बल्लेबाज़ी करते हुए भारत ने अपने आखिरी 7 विकेट केवल 93 रन पर गँवा दिए थे, वंही वेस्टइंडीज ने इससे भी ख़राब प्रदर्शन करते हुए अपने आखिरी 9 विकेट 90 रनो के अंदर खो दिए थे. 

14. Viv Richards ने कुल 7 चौके मारे वंही उनकी पूरी टीम केवल 3 चौके और 1 छक्का ही बटोर पायी थी. 

15.  वेस्टइंडीज की पूरी टीम केवल 140 रनो पर आल आउट हो गई गयी थी, जिसके साथ भारत ने 1983 के वर्ल्ड कप को जीत लिया था. 

16.  भारत एकमात्र ऐसा देश है जिसने वर्ल्ड कप के तीनो फॉर्मेट में वर्ल्ड कप जीता है, फिर चाहे वो 1983 के 60-60 ओवर्स का फॉर्मेट हो, 2007 का 20-20 या फिर 2011 का 50-50. भारत एकमात्र ऐसा देश है, जिसने इन सभी फोर्मट्स में वर्ल्ड कप अपने नाम किया है.   

17.   भारतीय टीम के आल राउण्डर मोहिंदर अमरनाथ को मैन ऑफ़ द मैच दिया गया था, जिसमे उन्हें इनामी राशि 600 पाउंड्स मिले थे. मोहिंदर अमरनाथ ने फाइनल मैच में 24 रनो की पारी खेली थी और 3 विकेट्स निकाले थे.

18.   Lloyd ने इतनी बड़ी हार की सीधी ज़िम्मेदारी लेते हुए फाइनल मैच के तुरंत बाद वेस्टइंडीज टीम की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था, पर वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड के सदस्यों और सीनियर खिलाड़ियों के मानाने पर उन्होंने अगले दिन इस्तीफा वापिस ले लिया था.   

19. मैच में J Garner ने अपने 12 ओवर्स में 4 मैडन ओवर्स डाले थे, वंही कपिल देव ने भी अपने 11 ओवर्स में 4 मैडन ओवर्स डाले थे.

20.  उस समय एक मैच खेलने के 12500 रूपए मिलते थे, पर BCCI ने 2 लाख रूपए की राशि को सभी प्लेयर्स में बाँट दिया था, जिसे सुनील गावस्कर ने लेने से मना कर दिया था. 

21. भारतीय टीम के वर्ल्ड कप जीतने की ख़ुशी में भारत की उस समय की सबसे मशहूर सिंगर लता मंगेशकर जी ने पूरी टीम के लिए, एक म्यूजिक कॉन्सर्ट को आयोजित किया था और इस कॉन्सर्ट से मिले सभी 14 लाख रूपए को सभी 14 खिलाडियों में बाँट दिया गया था.  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *