दोस्तो आज हम आपको एक ऐसी शख्सियत के बारे मे बताने जा रहे है, जो फिल्मो में हीरो का किरदार तो निभाते ही है इसके साथ ही असल जिंदगी में भी वह किसी हीरो से कम नहीं है. हम बात कर रहे है अक्षय कुमार जी की. इस पोस्ट में हम आपको उनसे जुड़ी अहम बातों से रूबरू करवायेगे और बताएंगे किस तरह संघर्षो का सामना करके आज वह इस मुकाम पर पहुंचे है.



अक्षय कुमार का जन्म 9 Sept 1967 को अमृतसर के पंजाब में हुआ, इनका असली नाम "राजीव हरिओम भाटिया" और इनके पिता "हरिओम भाटिया" है, जो मिलिट्री अफसर थे। इनकी माँ का नाम "अरुणा भाटिया" है और इनकी एक बहन भी है, जिनका नाम "अलका भाटिया" है। अक्षय के बचपन के शुरुवाती साल दिल्ली में बीते लेकिन कुछ वर्षों पश्चात वो अपने परिवार के साथ मुम्बई के कोलोवाड़ा में आ गए। अक्षय को अपनी माँ से काफी लगाव था और वे अपना हर बर्थडे अपनी माँ के साथ ही मनाते थे, इसके साथ बचपन से ही अक्षय का एक्टिंग और फिटनेस के प्रति काफी लगाव रहा है।

अक्षय ने अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई "डॉन बोस्को" हाई स्कूल से पूरी की और फिर इन्होंने गुरु नानक खालसा कॉलेज में अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी की। एक दिन उन्होंने अपने पिता के सामने मार्शल आर्ट सीखने की बात रखी, लेकिन उनके पिता की एक शर्त थी कि यदि अक्षय अपनी बोर्ड की परीक्षा में फर्स्ट डिवीज़न में पास होते है केवल तो ही वो उन्हें मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग के लिए बैंकॉक भेजेंगे। तो अक्षय ने मेहनत करना शुरू किया और उनकी मेहनत रंग भी लाई। अक्षय ने बोर्ड की परीक्षा में 63% अंक प्राप्त किये और वादे के मुताबिक उनके पिता ने अक्षय को मार्शल आर्ट सीखने बैंकॉक भी भेज दिया। और वँहा उन्होंने मेट्रो गेस्ट हाउस नाम के एक रेस्टोरेंट में एक वेटर के रूप भी काम किया। वँहा उन्हें 1500 रूपए  पगार मिलती थी और वे खाना बनाते हुए भी मार्शल आर्ट का अभ्यास किया करते थे और यंही से इनका संघर्ष शुरू हो चुका था। बॉलीवुड में आने से पहले अक्षय को कई छोटे मोटे काम भी करने पड़े। उन्होंने कोलकाता में स्थित एक Travel agency में डेढ़ साल चपरासी का भी काम किया।

बहरहाल उन्होंने अपनी मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग पूरी की और जब अक्षय मुम्बई आये तो इन्होंने अपना मार्शल आर्ट स्कूल शुरू किया। वंही एक लड़का जो अक्षय के पास मार्शल आर्ट सीखने आता था, वो एक फोटोग्राफर था और उसने उन्हें मॉडलिंग करने को कहा और साथ ही में उस स्टूडेंट ने अक्षय को एक मॉडलिंग असायमेंट भी दिया। अपने स्टूडेंट के बार बार फ़ोर्स करने पर अक्षय मॉडलिंग के लिए तैयार भी हो गए। पहली बार उन्हें कैमरे के सामने पोज़ देने के लिए 2 घण्टे के 5000 रुपये मिले और यहीं से उन्होंने निर्णय लिया कि वे आगे भी मॉडलिंग को जारी रखेंगे। इसके बाद उन्होंने "राजीव ओम भाटिया" से अपना नाम बदलकर अक्षय कुमार रख लिया। यह नाम उन्होंने एक फ़िल्म से प्रेरित होकर रखा जिसमे उनकी पसन्दीदा अभिनेत्री फ़िल्म के अभिनेता को अक्षय कहकर पुकारती थी।


उनकी पहली फ़िल्म "आज" में इनका किरदार 7 सेकंड का था। जिसमे वे कराटे परीक्षक की भूमिका में दिखाई दिए। हालांकि इन्होंने 1991 में आई फ़िल्म "सौगन्ध" से बॉलीवुड में डेब्यू किया। लेकिन यह फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास नही कर पाई। लेकिन फिर इन्हें अब्बास मस्तान की एक्शन थ्रिलर "खिलाड़ी" में अभिनय करने का मौका मिला। जिसमे उनके अभिनय को काफी सराहा गया, इस फ़िल्म ने उन्हें रातो रात स्टार बना दिया और फिर इन्होंने खिलाड़ी सीरीज की कई फिल्मों में अभिनय किया। जिसमे "मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी", "खिलाड़ियो का खिलाड़ी", "सबसे बड़ा खिलाड़ी", "मिस्टर एंड मिसेस खिलाड़ी" जैसी कई बेहतरीन फिल्में शामिल है। 

लेकिन इसी दरमियान ये अपने अफेयर को लेकर भी चर्चा में रहे, इनका नाम कई अभिनेत्रियो जैसे पूजा बन्ना, रवीना टंडन, शिल्पा शेट्टी, रेखा तथा प्रियंका चोपड़ा से भी जोड़ा गया। लेकिन इन्होंने इन सभी बातों को दरकिनार करते हुए 17 जनवरी 2001 को "ट्विंकल खन्ना" से शादी कर ली। इनके बेटे का नाम "आरव" और बेटी का नाम "नितारा" है और अब ये एक खुशहाल जिंदगी जी रहे है। 

वैसे आम तौर पर अक्षय बतौर एक्शन हीरो के रूप में जाने जाते थे, लेकिन इन्होंने अपनी एक्शन वाली इमेज को बदलकर रोमेंटिक और कॉमेडियन फिल्मो में अभिनय कर अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया। साल 2008 में आई फ़िल्म हेरा फेरी release हुई जो कि बॉक्स आफिस पर सुपरहिट साबित हुई, फिर अक्षय ने "गरम मसाला", "हे बेबी" और "वेलकम" जैसी फिल्मों से कॉमेडियन भूमिका के लिए निर्देशको की पहली पसंद बन गए।

हालांकि अक्षय कुमार को अपने फिल्मी करियर में कई उतार चढ़ाव का भी सामना करना पड़ा। उनके करियर में एक ऐसा दौर भी आया जब इनकी कई फिल्में फ्लॉप भी हुई। मगर अक्षय हार न मानते हुए ईमानदारी व मेहनत से करियर में आगे बढ़ते रहे और काफी ज्यादा संघर्ष के बाद आज वे इस मुकाम पर पहुंचे है।

अक्षय कुमार एक अनुशासन प्रिय व्यक्ति है वह अपनी फिटनेस को लेकर भी काफी सजग रहते है। यही कारण है कि वह दूसरे अभिनेताओ के मुकाबले साल में 4- 5 फिल्मे बड़ी आसानी से कर लेते है। अक्षय कुमार अभी तक 125 से भी अधिक फिल्मे कर चुके है।

अक्षय कुमार को बेहतरीन अदाकारी के लिए कई अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें "गरम मसाला", "मुझसे शादी करोगी" जैसी फिल्मो के लिए सर्वश्रेष्ठ कॉमेडियन के फिल्मफेर पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

2002 मे आई फ़िल्म "अजनबी" के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ खलनायक के फ़िल्मफ़ेयर अवार्ड से भी नवाजा गया।

2013 में उन्हें "ओह माय गॉड" के लिए उन्हें फ़िल्मफ़ेयर बेस्ट को एक्टर अवार्ड भी दिया गया।

2017 में उन्हें "रुस्तम" और "एयरलिफ्ट" के लिये सर्वश्रेष्ठ अभिनेता राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार से भी नवाजा गया।

2018 में उन्हें "जॉली LLB 2" के लिए बेस्ट एक्टर के तौर पर ज़ी सिने अवार्ड भी दिया। और 2018 में ही आई उनकी फिल्म "रोबोट 2.O" में उनके विलन के किरदार को काफी सराहा गया।

साल 2009 में एक अवार्ड शो के दौरान एक ऐसा वाकया हुआ कि अक्षय कुमार ने सभी लोगो का दिल जीत लिया, दरअसल अक्षय कुमार को "सिंग इज किंग" के लिए बेस्ट एक्टर का अवार्ड दिया गया पर इन्होंने अवार्ड लेने से मना कर दिया क्यूंकि उसी साल आमिर की फ़िल्म गजनी भी आई थी और अक्षय आमिर की इस मूवी में उनके किरदार से काफी प्रभावित हुए की उन्होंने यह अवार्ड आमिर खान को दे दिया था।
                                                                                                                                   

अक्षय कुमार एक बेहतरीन एक्टर के साथ साथ एक अच्छे इंसान भी है, वे किसी न किसी तरह देश के गरीबो की मदद करते ही रहते है। उन्होंने अयोध्या में बन रहे राम मंदिर के लिए 10 करोड रुपये दान दिए है और आपको तो मालूम है कि देश आज कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहा है, तो उन्होंने PM care fund में 25 करोड़ की भारी भरकम राशि दी। अक्षय देश सेवा के लिए हमेशा त्तपर्य रहते है, वे एक सच्चे देशभक्त है।

तो उम्मीद है, इस पोस्ट से आपको बहुत कुछ नया सीखने को मिला होगा और अक्षय कुमार की इस कहानी से आपको प्रेरणा भी ज़रूर मिली होगी। यदि हाँ तो इसे अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर कीजिये और साथ में आप अपने विचार हमारे साथ कमेंट बॉक्स में ज़रूर साझा करे.

Post a Comment

Previous Post Next Post